प्रशिक्षण के जरिये महिलाओं के भविष्य को संवारेगा खादी ग्रामोद्योग

2

देहरादून। प्रशिक्षण प्राप्त कर रही महिलाओं के लिए विभागीय बहुउद्देशीय प्रशिक्षण केंद्र व खादी और ग्रामोद्योग आयोग स्वरोजगार से जोड़कर उन्हें आत्मनिर्भर बनाने का बेहतरीन मौका प्रदान करता है।उन्होंने कहा हर जिलों में महिलाएं के लिए प्रशिक्षण की व्यवस्ता संचालित की गई।

ग्रामोद्योग आयोग के राज्य निदेशक राम नारायण ने आज एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से महिलाओं के स्वरोजगार से जुड़ी जानकारी मीडिया को दी।
उन्होंने कहा खादी और ग्रामोद्योग के तहत प्रशिक्षण प्राप्त कर रही महिलाओं के जीवन को बेहतर बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि बेरोजगार ग्रामीण महिलाओं को अब पलायन जैसे हालातों से जूझने की आवश्यकता नही पड़ेगी।

श्री राम नारायण ने बताया कि ब्यूटीशियन प्रशिक्षण का आज ग्राम चोनलिया जिला अल्मोड़ा में समापन किया गया। यह प्रशिक्षण 28 जून से चलाया जा रहा था जिसके तहत प्रशिक्षण के उपरांत सभी महिलाओं ने परीक्षा दी।
इस ब्यूटीशियन प्रशिक्षण में प्रशिक्षण में 20 महिलाओं ने प्रशिक्षण प्राप्त किया।
उल्लेखनीय है की इस प्रशिक्षण के उपरांत सभी महिलाएं प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के अंतर्गत अपना सैलून खोलने के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकती है और सभी बैंकों से ऋण ले सकती है। यह ऋण बहुत ही आसान किस्तों पर मात्रा ५% अंशदान लगाकर ९५% ऋण लिया जा सकता है। सैद्वांतिक रूप से ऋण स्वीकृत होते ही सभी को ७-१० दिवसीय उद्यमिता विकास कार्यक्रम के अंतर्गत प्रशिक्षण दिया जायेगा। इस प्रशिक्षण से सामान्य प्रबंधन की जानकारी दी जाएगी।प्रशिक्षणोपरांत सभी प्रमाणपत्र प्रदान किया जाता है और इस प्रमाणपत्र को ऑनलाइन अपलोड किया जाता है। तत्पश्चात बैंक से ऋण की पहली क़िस्त रिलीज कर दी जायेगी। अपना सैलून खोलने के उपरांत काम से काम २-५ लोगो रोजगार भी मिल जायेगा।
इस वर्ष भारत सरकार ने प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के महत्व को दृटिगत रखते हुय्रीस कार्यक्रमको अगले ५ बर्षों के लिये बड़ा दिया है जिससे अधिकाधिक रोजगार के अवसर सृजित हो सके. सूक्ष्म , लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय (भारत सरकार) सेवा क्षेत्र में परियोजना लागत ₹१०. लाख से ₹२०. लाख तथा निर्माण क्षेत्र में ₹२५.०० लाख से बढाकर ₹ ५०.०० लाख कर दिया है. प्रति व्यक्ति विनिवेश की सीमा भी सूक्ष्म , लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय (भारत सरकार) ₹१. ०० लाख प्रति व्यक्ति से सूक्ष्म , लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय (भारत सरकार) सूक्ष्म , लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय (भारत सरकार) ₹ ३.०० लाख तथा पहाड़ी सीमांत क्षेत्रोंके लिए ₹१.५० लाख से बढ़ाकर सूक्ष्म , लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय (भारत सरकार) ₹४. ५० लाख करदिया है.
राज्य निदेशक प्रभारी/ प्रधानाचार्य , बहुउद्देशीय प्रशिक्षण केंद्र, खादी और ग्रामोमोद्योग आयोग, सूक्ष्म , लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय (भारत सरकार) , हल्द्वानी ने अपील की है कि कुमाऊं और गढ़वाल मंडल में स्वरोजगार के वेरोजगार युवक/युवतियां बहुउद्देशीय प्रशिक्षण केंद्र, हल्द्वानी और देहरादून से अपना कौशल विकास कर प्रधान मंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम का भी लाभ उठा सकते है.
भारत सरकार और रेलवे मंत्रालय की पहल ‘एक स्टेशन एक उत्पाद’ के अंतर्गत स्थानीय खादी और ग्रामोद्योग की के उत्पादों के प्रोत्साहन के लिए पूर्वोत्तर रेलवे इज्जतनगर रेल मंडल में काठगोदाम और रुद्रपुर स्टेशन में सामान की विक्री और प्रदर्शन हेतु स्थान उपलब्ध कराया है जिससे स्थानीय कारीगरों और को लाभ मिल रहा है.

2 thoughts on “प्रशिक्षण के जरिये महिलाओं के भविष्य को संवारेगा खादी ग्रामोद्योग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *