प्रतिभा के दम पर गौरव रत्न प्राप्त कर ललित ने बढ़ाया राज्य का मान

0

देहरादून। किस्मत में लिखी हर मुश्किल टल जाती हैं,
यदि हो बुलंद हौसले तो मंजिल मिल ही जाती हैं ,
सिर उठा कर यदि आसमान को देखोगे बार-बार
तो गगन को छूने की प्रेरणा मिल ही जाती हैं। 

इस कथन को चरित्रार्थ करने वाले युवा कवि ललित शौर्य ने कम उम्र में अपनी योग्यता के दम पर खूब नाम कमाया है।  उनके इस प्रतिभा को देखते हुए उन्हें हिंदी सेवा रत्न सम्मान से सम्मानित किया गया है।

स्वदेशी जागरण मंच द्वारा आयोजित मेले में कार्यक्रम की मुख्य अतिथि भाजपा महिला मोर्चा की राष्ट्रीय महामंत्री दीप्ति रावत, स्वदेशी जागरण मंच के प्रान्त संयोजक सुरेंद्र, स्वदेशी जागरण मंच के प्रान्त संघर्ष वाहिनी प्रमुख प्रवीण पुरोहित, स्वदेशी जागरण मंच के महानगर प्रचार प्रमुख आधार वर्मा व समाजसेवी रजनीश कौंसवाल ने संयुक्त रूप से शौर्य को यह सम्मान प्रदान किया।
दीप्ति रावत ने कहा कि ललित शौर्य प्रसंशनीय कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कम उम्र में बाल साहित्य को अप्रतिम योगदान प्रदान किया है। उनकी साहित्य साधना प्रभावित करती है।
स्वदेशी जागरण मंच के प्रांत संयोजक सुरेंद्र ने कहा कि ललित शौर्य का बाल साहित्य नई पीढ़ी को गढ़ने का कार्य कर रहा है। वह बच्चों में नई चेतना  व संस्कार डाल रहे हैं।
प्रवीण पुरोहित व आधार वर्मा ने कहा कि ललित शौर्य प्रदेश के युवाओं के लिए प्रेरणा स्त्रोत हैं। शौर्य प्रभावशाली कवि भी हैं। उनकी कविताएं ऊर्जा से भर देती हैं।
समाजसेवी रजनीश कौंसवाल ने कहा ललित शौर्य की दर्जनों किताबें आ चुकी हैं। बाल साहित्य आज की आवश्यकता है। शौर्य बच्चों में मोबाईल की आदत कम करने के लिए प्रयासरत हैं। उनकी मोबाइल नहीं किताब दो मुहिम भी सराहनीय है।
इस अवसर पर ललित शौर्य ने अटल बिहारी वाजपेयी की कविता का वाचन भी किया। ललित शौर्य के इस सम्मान से साहित्यकारों में खुशी की लहर है।

देहरादून। उत्तराखंड के युवा साहित्यकार ललित शौर्य को देहरादून में हिंदी सेवा रत्न सम्मान से सम्मानित किया गया है। स्वदेशी जागरण मंच द्वारा आयोजित मेले में कार्यक्रम की मुख्य अतिथि भाजपा महिला मोर्चा की राष्ट्रीय महामंत्री दीप्ति रावत, स्वदेशी जागरण मंच के प्रान्त संयोजक सुरेंद्र, स्वदेशी जागरण मंच के प्रान्त संघर्ष वाहिनी प्रमुख प्रवीण पुरोहित, स्वदेशी जागरण मंच के महानगर प्रचार प्रमुख आधार वर्मा व समाजसेवी रजनीश कौंसवाल ने संयुक्त रूप से शौर्य को यह सम्मान प्रदान किया।
दीप्ति रावत ने कहा कि ललित शौर्य प्रसंशनीय कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कम उम्र में बाल साहित्य को अप्रतिम योगदान प्रदान किया है। उनकी साहित्य साधना प्रभावित करती है।
स्वदेशी जागरण मंच के प्रांत संयोजक सुरेंद्र ने कहा कि ललित शौर्य का बाल साहित्य नई पीढ़ी को गढ़ने का कार्य कर रहा है। वह बच्चों में नई चेतना व संस्कार डाल रहे हैं।
प्रवीण पुरोहित व आधार वर्मा ने कहा कि ललित शौर्य प्रदेश के युवाओं के लिए प्रेरणा स्त्रोत हैं। शौर्य प्रभावशाली कवि भी हैं। उनकी कविताएं ऊर्जा से भर देती हैं।
समाजसेवी रजनीश कौंसवाल ने कहा ललित शौर्य की दर्जनों किताबें आ चुकी हैं। बाल साहित्य आज की आवश्यकता है। शौर्य बच्चों में मोबाईल की आदत कम करने के लिए प्रयासरत हैं। उनकी मोबाइल नहीं किताब दो मुहिम भी सराहनीय है।
इस अवसर पर ललित शौर्य ने अटल बिहारी वाजपेयी की कविता का वाचन भी किया। ललित शौर्य के इस सम्मान से साहित्यकारों में खुशी की लहर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *